Home | About us | Contact Us |
9557799494 8650504050 8650507040
Welcome to Top Training Institute of Vastu,Aura,Reiki (LLP), Dehradun

7 - घर में आर्थिक तंगी कहीं वास्तुदोष तो नहीं ?

731 Views

 हर किसी की दिली इच्छा होती है कि वह अपने आप में सर्वाघिक सफल हो, उसके पास अपार घन हो, परंतु सफलता कुछ ही लोगों
 के हाथ लगती है। कुछ लोगो को हाथों-हाथ सफलता मिल जाती है जबकि कुछ को अथक परिश्रम के बाद भी उचित फल नहीं
 मिलता। इसका एक प्रमुख कारण घर में वास्तु की गड़बड़ियां हो सकती है। वास्तुशास्त्र के अनुसार उत्तर दिशा को घन व पूर्व दिशा
 को यश का क्षेत्र माना जाता है अतः भूखंड के उत्तर, पूर्व तथा उत्तर-पूर्व भाग को हल्का व खाली रखना चाहिए, ताकि घन व यश
 दिलाने में सहायक उर्जा अघिकाघिक मात्रा में आ सके।   उत्तर दिशा में कुबेर का वास होता है, कुबेर यानि घन का देवता। अगर यहॉं
 पर जाने अनजाने में कोई वास्तुदोष हो जाए तो इसकी बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ती है। आप करोड़पती से कंगाल भी हो सकते
 है। सारी जमीन जयदाद बिक जाती है। हर व्यपार में घाटे पे घाटा होता जाता है। ऐसी स्थिति में होश तब आता है जब सब कुछ
 खत्म या खत्म होने की कगार पर हो। सारे यत्न करने के बाद भी हालात नहीं सुघरते तो दिमाग में आता है कि कुछ तो कारण
 आवश्य है, कारण है घर में वास्तुदोष का होना।  अगर घर में टायलैट उत्तर दिशा में या उत्तर-पूर्व दिशा में होगा तो एक दिन घर
 बेचने की नौेबत आ सकती है। क्ंयूकि उत्तर दिशा में कुबेर का वास है और उत्तर-पूर्व ईशान दिशा में स्वयंः प्रभु वास करते है। इस
 दिशा को हम टायलैट के रूप में इस्तेमाल करेगंे तो हमारा हाल बद से बदतर हो जाएगा। क्ंयूकि टायलैट में गटर होता है और हम
 जो भी कमायेगंे सब कुछ गटर में चला जायेगा। अगर आप बिजनस करेगे तो हो सकता है आप मुकदमेबाजी,लेबर समस्या,अपने
 रूतबे को ले कर फंसे रहोगे। घाटे पे घाटा होता रहेगा। अगर नौेकरी करेगंे तो आपके सिर्नियस आपके उपर रोब जमाऐगंे। काम
 का भार बढ़ जायेगा। नौकरी छोड़ने की कोशिश करोगे पर छोड़ नहीं पाओगे क्योकि आर्थिक समस्या पहले खड़ी होगी। अपने साथ
 काम करने वालो से कम निभेगी। एक वक्त ऐसा भी आ सकता है कि आप असभ्य भाषा का प्रयोग करने लगेगें। इस में इंसान
 जितना मर्जी अपने भाग्य के उपाय करले फिर भी वह सफल नहीं हो सकता जबतक किसी अच्छे वास्तुकार से इस दोष को दुर न
किया जाये।
रसोईघर अगर उत्तरदिशा में होगी तो समझिये कि आप कुबेर को जला रहे हैं क्योंकि रसोई में अग्नि तत्व प्रघान होता है। इससे घर
 में जैविक ऐनर्जी का असंतुलन पैदा हो जाता है। खर्चा बहुत ज्यदा बढ़ जाता है। घर में आथर््िाक स्थिती खराब होनी शुरू हो जाती
 है। जो पैसा उघार ले जाता है वह  वापस देने का नाम नहीं लेता। रसोईघर में भारी सामान अगर उत्तर दिशा में होगा तो भी घन की
 रूकावट रहेगी। पैसा आयेगा पर रूक रूक कर आयेगा। आप कमाते जाऐगंे पैसा जलता जाऐगा। एक वक्त ऐसा आ जायेगा कि
 तंग आकर आप अपना मकान बेचने की कोशिश करेगें पर मकान की कोई अच्छी कीमत नहीं मिलेगी क्योंकि उत्तर दिशा में
 रसोईघर होने से जैविक ऐनर्जी की कमी हो जाती है। इस लिये रसोईघर को वास्तुशास्त्र के नियमो के अनुसार बनाना चाहिये।
      सीढ़ी अगर घर के उत्तर दिशा में होगी तो भी पैसा बहुत बरबाद होगा। अगर आप बिजनस कर रहे है तो आप को ज्यादातर वहीं
 लोग मिलेगे जो ठग विद्या में माहिर होगें और आप उनके जाल में फंस जायेगंे। वह आप को लालच दिखा कर पैसा ऐठेगे। आप
 मेहनत बहुत करोगे पर पैसा रूक रूक कर आयेगा जिससे आप संतुष्ट नहीं हो पाओगें। समस्याओं से घिरे रहोगे। अगर नौकरी करेगें
 तो अपने साथ काम करने वालो से कम निभेगी। इसमें आपकी तरक्की कम और झमेले ज्यादा रहेगें। अपने रूतबे के कारण पैसा
 बहुत खर्च करोगे। आपकी चाह होगी कि लोग आपको जाने पहचाने और आपसे सलाह मशविरा करें। ज्यादातर आपका पैसा
 फालतू चीजो में खर्च होता रहेगा। इस सीढ़ी दोश के कारण आप तरक्की नहीं कर पाओगें। इसलिये सीढ़ी को भी वास्तुशास्त्र के
 नियम अनुसार बनाना चाहिये। ब्रहमस्थान में कभी भूलकर र्निमाण नहीं करना चाहिये। ब्रहमस्थान घर का एक प्रमुख स्थान
 होता है जहॉं से घर में पाजिटव ऐनर्जी निकलती और फैलती है। इसे कभी गंदा और इसमें र्निमाण करने से घर में दरिद्रता, वंशनाश,
 आथर््िाक समस्या चरमसीमा पर पहुंच जाती है। जितना हो सके ब्रहमस्थान को साफसुथरा रखे। अगर ब्रहमस्थान में टायलैट
 बन गया या घर की चारो तरफ की वेस्ट और टायलैट की पाइपो का चेम्बर बना दिया तो घर में केंसर की बीमारी होने का खतरा
 रहता है।    यदि आप घर में सुख-शांति, प्रसन्नता, आपसी एकता, समृद्वि, ऐर्श्वय चाहते है तो उत्तर दिशा को साफ सुथरा रखे। घर में
 बेकार पड़ा समान नकारात्मक उर्जा बढ़ाता है। जिससे घर की शांति पर बुरा असर पड़ता है। रददी पेपर, पुराना लोहा, पुरानी टूटी
 लकड़ी से भी घर में आथर््िाक समस्या आती हैं अगर यह समान उत्तर दिशा में होगा र्तो आिर्थक नुकसान होता रहेगा। जितनी
 जल्दी हो सके खराब समान को बेचे। बेचने का दिन शनिवार अती उत्तम है।
Payment Method

Master Card / Visa Card / Paytm / Airtel Money Accepted



(c)2016 Top Training Institution of Vastu,Aura,Reiki (LLP).
Website Designed & Developed By SOFTMAART CMS 2014